July 21, 2024

अनोखी प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए एक साधु अपने सर की चोटी पर रामरथ बांधकर निकल पड़ा

0

अनोखी प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए एक साधु अपने सर की चोटी पर रामरथ बांधकर निकल पड़ा

अनोखी प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए एक साधु अपने सर की चोटी पर रामरथ बांधकर निकल पड़ा है।

200किलोमीटर का सफर तय करने के बाद साधु आज बांदा पहुंचा जहां हिंदू संगठनों ने जोरदार स्वागत करते हुए साधु पर पुष्प वर्षा की है। भगवान राम से आस्था लगाने वाला यह साधु मध्य प्रदेश का रहने वाला है। जो 501 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद अयोध्या में श्री रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने की बात कह रहा है। साधु की अनोखी प्रतिज्ञा को लेकर लोग हैरत में है तो वही भगवान श्री राम के जयकारों के बीच जगह-जगह साधु का स्वागत हो रहा है। 92 में खाई कसम को पूरा करने के लिए साधु अपने सर की चोटी से रामरथ खींचता दिखाई दिया। यही नहीं साधु ने अयोध्या में भगवान राम के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को पीएम मोदी और सीएम योगी की देन बता रहे है।

अयोध्या में आगामी 22 जनवरी को श्री रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर तैयारी जोरों पर चल रही है तो वहीं राम भक्त भी अपनी श्रद्धा और भगवान राम के प्रति अपने अटूट प्रेम को दर्शाने में लगे हुए हैं। ऐसा ही एक राम भक्त अपने सर की चोटी से रामरथ खींचता हुआ पैदल अयोध्या के लिए चल पड़ा है। दरअसल आपको बता दें की मध्य प्रदेश के दमोह जनपद के बटियागढ़ गांव का रहने वाला बाबा बद्री 1992 में ली गई अपनी प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए रामरथ को चोटी से बांधकर अयोध्या के लिए जा रहा है। बाबा बद्री बताते हैं कि करोड़ रामभक्तों की तरह वह भी अयोध्या में राम मंदिर बनने की इच्छा रखता था लेकिन राम मंदिर में साल दर साल आ रही अड़चन के कारण वह हताश और दुखी हो चुका था। इस बीच उसने प्रतिज्ञा ली थी कि जब भी भगवान राम का भव्य और दिव्य राम मंदिर बनेगा तब वह अपनी चोटी में रामरथ बांधकर पैदल ही अयोध्या जाएगा। ऐसे में 1992 में ली गई प्रतिज्ञा के पूरी होने पर राम भक्त बद्री अपनी कसम को पूरा करने के लिए निकल पड़ा है। सर की चोटी पर रस्सी बांधे राम भक्त रामरथ को घसीटता चला जा रहा है। दमोह से तकरीबन220 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद राम भक्त बाबा बद्री आज बांदा पहुंचे जहां हिंदू संगठन के लोगों ने पुष्प वर्षा कर जगह-जगह स्वागत किया है। तो वहीं फूल माला पहनाकर बाबा का हौसला बढ़ाया गया। इस बीच बांदा के माहेश्वरी देवी मंदिर में माथा टेका और कहा कि ये स्नेह और प्रेम राम नाम के जप से मिल रहा है। बाबा राम नाम को जपता हुआ अयोध्या 501 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद 22 जनवरी तक अयोध्या पहुचेंगे जहां श्री रामलला के दर्शन करेंगे। बद्री महोबा के हिंदू संगठनों के प्रेम से उत्साहित है और वह कहता है कि अब उसके अंदर एक नई ऊर्जा आ चुकी है। वह रोजाना पूरी ताकत से पैदल चलकर जल्द से जल्द भगवान श्री राम को पा लेना चाहता है

www.khabarjagat24.com
रिपोर्ट दिलीप जैन बीरेंद्र गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चर्चित खबरे