July 21, 2024

Bank Account Pre-Validation: ITR Filing में आपके बैंक खाते का प्री-वैलिडेशन क्यों जरूरी होता है, जानिए- यहां

0

सबसे पहले, आपके बैंक खाते को पूर्व-सत्यापित (Pre-Validate) करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आयकर अधिनियम, 1961 के तहत अनिवार्य है. आयकर अधिनियम की धारा 139AA के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति जिसके पास पैन है, उसे अपने बैंक खाते से जोड़ना आवश्यक है. ऐसा करना इसलिए जरूरी है, क्योंकि यह आयकर विभाग को आपके देय किसी भी रिफंड या भुगतान को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम ट्रांसफर करने में सक्षम बनाता है. इसके अलावा, यह पहचान की चोरी और टैक्स चोरी जैसी गतिविधियों को रोकने में मदद करता है, क्योंकि सभी लेन-देन आपके बैंक खाते में वापस आ जाएंगे.

दूसरा यह कि अपने बैंक खाते को पूर्व-सत्यापित (Pre-Validate) करने से यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि आपको कोई भी रिफंड समय पर और बिना किसी परेशानी से मिल जाता है. यदि आप अपने बैंक खाते को पूर्व-सत्यापित (Pre-Validate) करने में विफल रहते हैं, तो आयकर विभाग आपको देय किसी भी रिफंड को ट्रांसफर कर पाएगा, और आपको समस्या को सुधारने के लिए एक मैन्युअल प्रक्रिया से गुजरना होगा. जिसका रिजल्ट यह होगा कि इसमें बेवजह की देरी होगी और आपके रिफंड को जब्त किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चर्चित खबरे